फसल के मुआवजा के मांग

या फसल लइके आये रहैं किसान
या फसल लइके आये रहैं किसान
बबेरू तहसील मा आये किसान
बबेरू तहसील मा आये किसान

5 फरवरी 2014 का किसान सड़ी फसल लइके अतर्रा अउर बबेरू तहसील दिवस मा आये रहैं। अतर्रा तहसील मा पिण्डखर, बसरेही, ओरहा अउर खम्हौरा के लगभग दस किसान अउर बबेरू तहसील मा बबेरू कस्बा अउर सातर गांव के दर्जन भर किसान शामिल रहैं।
बसरेही गांव का सत्तर साल का कुराबलि कहिस कि आठ बिगहा मा धान लगाये रहौं। खलिहान मा लाग धान का ढे़र बेमौसम बारिश से जाम उठा है। अब वा धान कउनौ काम का निहाय। जउन बच भी गा है वा धान मा भुण्डा लाग गा है। इनतान का धान, धान केन्द्र वाले खरीदत भी निहाय। ओरहा गांव का किसान सुशील, पिण्डखर गांव का किसान भगवान दीन अउर किसान यूनियन अध्यक्ष अखिलेश सिंह कहत हैं कि बेमौसम बारिश अउर ओला से फसल का बीजा भी न लउटी। खर्च अउर शादी ब्याह जइसे काम कसत कीन जइहैं। किसान मांग करिन कि 8 फरवरी 2014 तक उनके फसल के जांच कई लीन जाय। सातर गांव के किसान प्रेमनारायण, रमाकांत अउर गोरे लाल कहिन कि लगभग सौ बिगहा के फसल बरबाद भे है। बबेरू विभार थोक के रानी देवी कहिस-“मोर पांच बिगहा के खेती बरबाद होइगे है। बच्चन का पेट साल भर कसत पालिहौं।”
बबेरू एस.डी.एम. आर.के. श्रीवास्तव अउर अतर्रा तहसीलदार के.पी. विश्वकर्मा कहत हैं कि सौ मा पचास प्रतिशत जेहिकर नुकसान भा है वहिका मुआवजा दीन जई। अबै नुकसान फसल के जांच चलत है।