प्रशासन की सुस्ती के कारण पानी-पानी करते भटक रहें हैं लोग!

DSC01877 copyजिला चित्रकूट, ब्लॉक कर्वी, गांव चकला पुरवा, कल्ला भवानी दाई। इस गांव में लगभग साठ घर हैं। इन साठ लोगों के बीच एक हैंडपंप लगा था, जो पिछले छह महीने से खराब है। इस बिगड़ती स्तिथि में लोग पानी लेने के लिए लगभग दो सौ मीटर दूर बने प्राथमिक विद्यालय से पानी भरने जाते हैं। इस समस्या से निपटने के लिए प्रधान भीमराज यादव से 3 मई को कहा गया था, लेकिन सिवाए वादे के कुछ नहीं मिला।
पुरवा की फूलकली कहती हैं कि पानी के लिए बस एक कुंआ ही बचा था वो भी अब सूख गया है। पानी की आस में इस कुएं की सफाई भी हम पति-पत्नी ने कर डाली। जिसके बाद हमारे हाथों में छाले पड़ गये और उल्टियां शुरू हो गयीं लेकिन पानी न मिल सका। अब हार कर हम भी स्कूल से पानी लेने जाते हैं।
धोखिया सुबह पांच बजे उठ कर पानी लेने जाती है। वरना पानी के लिए लम्बी लाइन लग जाती है और तब घर का काम भी रह जाता है। समय से खाना नहीं बन पाता तो पति गुस्सा करते हैं। यही नहीं, पानी के चक्कर में बच्चों का स्कूल और मजदूरी पर जाने के लिए देर हो जाती है। पानी का असर बच्चों की पढ़ाई पर भी पड़ने लगा है।
पानी की बढ़ती समस्या को देखते हुए प्रधान भीमराज यादव का कहना है कि हैंडपंप बनवाने के लिए जल निगम में शिकायत की थी लेकिन वहां के अधिशासी अभियन्ता जेपी सिंह का कहना है कि जल्द ही हैंडपंप बनवाये जायेंगे। इसके लिए एक सूची भी तैयार की गई है जिसमें जिले के तीन सौ छत्तीस हैडपंप रिबोर के लिए हैं और पांच सौ नए हैंडपंप लगवाये जाने हैं।

रिपोर्टर – तबस्सुम