प्यार बिना चैन कहां रे, मिलिए झांसी के विनीता बलराम से, और जानिये इनकी लव स्टोरी

झाँसी के दो प्रेमी विनीता और बलराम अपने आप में ख़ास हैं। दोनों का आपसी प्रेम और उनके प्रेम की कहानी आज के दौर में लोगों के लिए एक मिसाल की तरह है।
दोनों का चेहरा पर उनके प्रेम की चमक देखते ही बनती है। झाँसी के बबीना जैसे छोटे गांव में रहने वाले इस जोड़े ने समाज के विरोध के बाद भी अपनी मर्जी से शादी की। यह प्रेम कहानी अलग इसलिए भी है क्योंकि विनीता बलराम से मिलने से पहले ही विनीता शादीशुदा थी और अपने ससुराल से मिलने वाले शोषण से तंग आ चुकी थी।
बलराम से पहली बार मिलने पर ही विनीता को लग गया कि यही उनका प्रेम है। दोनों को पहली नजर का प्यार हुआ और फिर साथ निभाने और रहने के लिए दोनों ने शादी कर ली।
विनीता और बलराम शर्माते हुए अपने प्रेम के बारे में बताते हैं। उन्हें पहली नजर का प्यार हुआ और पहली ही मुलाकात में यह यकीं हो गया कि वो दोनों एक दूसरे के लिए ही बने हैं।
विनीता कहती हैं, मैं सात साल तक पहली शादी में रही। कुछ समय ससुराल में काटे और फिर जब पता लगा कि पति ने दूसरी औरत भी रखी हुई है तब मेरे विरोध करने पर उनका शोषण बढ़ता गया जिसके बाद मैं मायके आ गयी। सात साल बाद जब पहली बार उन्होंने बलराम को देखा तभी वह समझ गयी थीं कि यही उनके जीवनसाथी हैं और उन्हें अब कोई अलग नहीं कर सकता।
बलराम कहते हैं उन्हें मोबाइल के जरिए विनीता मिली और फिर पहली मुलाकात पर ही यह निर्णय लिया कि बस अब साथ रहना है।

रिपोर्टर- सोनी और सफीना 

19/05/2017 को प्रकाशित