पीपल्स डेमोक्रेटिक पार्टी से क्यों टूटा भाजपा का गठबंधन, जानिए कारण

साभार: विकिमीडिया कॉमन्स

भाजपा ने जम्मू-कश्मीर में महबूबा मुफ्ती की सरकार से समर्थन वापस ले लिया। जिसके बाद मुख्यमंत्री ने राज्यपाल को अपना इस्तीफा सौंप दिया। भाजपा ने कहा कि देश की अखंडता और एकता की रक्षा के लिए यह कदम उठाया गया है क्योंकि मुफ्ती सरकार हर मोर्चे पर विफल साबित हुई है।
राज्य के भाजपा प्रभारी राम माधïव ने प्रेस कांफ्रेंस में कहा कि घाटी में हालात को काबू में लाने के लिए देश हित में समर्थन वापस लेने का फैसला लिया गया है। हम शासन की बागडोर राज्यपाल को सौंपने की मांग करते हैं। हालात सुधरने के बाद पार्टी फिर इस पर विचार करेगी।
उन्होंने कहा, आपरेशन ऑलआउट के चलते गठबंधन टूटा, पीपल्स डेमोक्रेटिक पार्टी सीजफायर खत्म करने के लिए तैयार नहीं थी। पीपल्स डेमोक्रेटिक पार्टी अलगाववादियों से बातचीत की पक्षधर थी लेकिन भाजपा पर बड़ा दबाव था और सरकार में शामिल भाजपा मंत्री बातचीत के विरोध में थे।
उन्होंने आगे कहा, जम्मू में शांति बहाली और सभी तीनों क्षेत्रों के आर्थिक विकास को तेज करने के एजेंडे पर काम शुरू हुआ लेकिन तीन साल के बाद हम इस नतीजे पर पहुंचे हैं कि मुफ्ती सरकार फेल हुई है। इसलिए इस गठबंधन सरकार को आगे चलाना संभव नहीं है।
उन्होंने कहा, आतंकवाद और हिंसा में तेजी आई है। कट्टरता बढ़ रही है। अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता खतरे में है। वरिष्ठ पत्रकार शुजात बुखारी की हत्या परिस्थितियों की विषमता की परिचायक है। इन परिस्थितियों को संभालने में राज्य सरकार नाकाम साबित हुई है। विकास की दृष्टि से जो काम होने चाहिए थे वह नहीं हुए। जम्मू और लद्दाख से भेदभाव किया जा रहा है। भाजपा नेताओं के काम में अड़ंगे लगाए जा रहे हैं।
राम माधव ने कहा कि रमजान के महीने के दौरान घाटी में एकतरफा संघर्ष विराम हमारी मजबूरी नहीं थी। हमने बड़ा दिल दिखाया लेकिन बड़े अफसोस के साथ कहना पड़ रहा है कि आतंकियों और अलगाववादियों ने इसका फायदा उठाने के लिए पहल नहीं की।