पक्का नाला बनै के करत मांग

केवटरा मोहल्ला मा नाला के ऊपर धरे बांस
केवटरा मोहल्ला मा नाला के ऊपर धरे बांस

बांदा शहर के मोहल्ला केवटरा अउर परशुराम तालाब। इं दूनौ मोहल्लन मा नाला निहाय। मड़इन का निकरै के दिक्कत है, यहिसे नगर पालिका का दरखास दिहिन हैं।
केवटरा मोहल्ला के प्रकाश नारायण, जितेन्द्र कुमार अउर अवधेश कुमार बतावत हैं कि हमरे मोहल्ला मा घरन के किनारे से नाला निकरा है। नाला मा सीमेंट के चटिया परी रहैं तौ चेयरमैन एक साल पहिले बुल्ड़ोजर मशीन से उखड़ा लइगे है। कहत रहै कि हेंया नाला बनवा दीन जई। अब बांस बल्ली से रास्ता बना के निकरत हन। सबसे ज्यादा छोट-छोट बच्चन का स्कूल जाय मा परेशानी हेात है।
यहिनतान परशुराम तालाब के मुन्ना अउर उमेश कहत हैं कि हम लोग चार साल से लोहिया पुल के किनारंे नाला बनैं के मांग करत हन, पै कउनौ सुनाई निहाय। या मोहल्ला मा नाला न होय से बहुतै गन्दगी अउर पानी का भराव रहत है। निकरैं वाले मड़इन का परेशानी होत है। यहिके खातिर हम नगर पालिका का दसन दरकी दरखासै दीने होइबे। चेयरमैन विनोद जैन कहत है कि केवटरा मोहल्ला मा काम शुरू है। जबै होआं तक नाला बन जई तौ पुलिया भी बनवा दीन जई। परशुराम तालाब मा रेलवे के जमीन परत है। यहिसे काम नहीं होत आय। नाला बनवावैं खातिर तीन महीना पहिले रेलवे का लिख के दीन गा है, पै कउनौ कारवाही नहीं भे। अगर रेलवे विभाग कहि दे कि नगर पालिका नाला बनवा दे तौ काम होई सकत है।