न जाने कब तक गुजरना होगा बाँदा के इन टूटे-फूटे रास्ते से

बांदा जिला , ब्लाक तिंदवारी हेंया जौहरपुर से तिंदवारी जाय वाली रास्ता मा दुई साल से पुलिया टूटी पड़ी है। जेहिसे आवै जाये वाले मड़इन का घटना के डेर बनी रहत है। पी. डब्ल्यू.डी बिभाग कहत है अबै बजट नहीं आय।
राजेश कुमार का कहब है कि हेंया से रोज लगभग दुई हजार साधन निकलत हैं। दुई साल से पुलिया टूट पड़ी है व पुलिया के नीचे बहुतै बड़ी खाई है। जेिहमा कउनौ गिर जाये, तौ वहिके तुरतै मउत होइ जाये। अबै तक कइयौ घटना घट चुकी हवैं। पै प्रशासन ध्यान नहीं देत हैं।
नवल किशोर प्रजापति बताइस कि हेंया से रोज गाड़ी, लढी, ट्रैक्टर अउर बस हजारन के संख्या मा निकलत हैं। पुलिया टूटे के कारन मड़इन का हर समय गिरे का डेर बनी रहत है। सुनील अउर राम पतिया बताइन कि वाहन झूमत हवै तौ पुलिया मा गिरे के डेर रहत है प्रशासन से कहित हन कि जल्दी पुलिया बनवा दें।
पंचायत मित्र मुखिया का कहब है कि पी. डब्ल्यू.डी के तहत या रास्ता आवत है यहै कारन पी. डब्ल्यू.डी या रास्ता बनवइहैं। अबै तक या समस्या का कउनौ तरीका नही निकला आय। रात के समय बाहरी मड़इन का हेंया से निकले मा बहुतै परेशानी होत है। काहे से उनका नहीं पता रहत कि हेंया के पुलिय टूट है।
पी.डब्ल्यू.डी विभाग के अधिषाशी अभियंता शारदा प्रसाद का कहब है कि स्ट्रीमेट बना दीन गा हवै पुलिया खातिर जबै बजट आ जई तौ तुरतै बनवा दीन जई।

रिपोर्टर- शिवदेवी

29/10/2016 को प्रकाशित