नींक के साथै परेशानी भी हवै

जांच करत अधिकारी
जांच करत अधिकारी

जिला चित्रकूट, ब्लाक कर्वी, मुहल्ला नई बाजार से शंकर बाजार तक। हिंया शासन के आदेश से 20 दिसम्बर 2013 से ओवर ब्रिज बनै लाग हवै। या ओवर ब्रिज बनै से एक कइती तौ बहुतै फायदा हवै, पै कुछ लोगन का या समय बहुतै बुरा हाल हवै। ओवर ब्रिज उत्तर प्रदेश सेतु निगम बनवावत हवै। पता नहीं कबै तक बन के तैयार होइ।
बल्दाऊगंज मुहल्ला के सोनिया सड़क के किनारे चुडि़य बेचत हवै। वा बताइस कि जबै से या खोदाई चालू हवै तौ हमार सामान नहीं बिकत आय। काहे से खोदाई से धूल निकरत हवै तौ पूर सामान मा बइठ जात हवै। हमार पेट रोटी मारी जात हवै।
कर्वी का शम्भू कहत हवै कि सरकार ओवर ब्रिज बनवा के बहुतै नींक काम करत हवै, पै या समय मड़इन का निकरै बइठै मा बहुतै परेशानी उठावै का परत हवै। पता नहीं कबै तक या पुल बन के तैयार होइ।
रिक्शा चलावै वाले मोहन, नत्थू अउर कमलेश बताइन कि पुल जब बनी तौ बनबै करी। हमार तौ मेहनत बढ़ गे, पै रूपिया नहीं बढ़ा आय। पहिले हम बस अड्डा से सीधे रिक्शा शंकर बाजार लइके निकरत रहेन, पै अब आधा किलो मीटर घूम के आवै जाये का परत हवै। दस रूपिया कि जघा बीस रूपिया लागत हवै, पै मड़ई दस रूपिया बस देत हवै।
रामा, मोहन, सुखदेव, शिवशंकर अउर आशीष बताइन पुल बनै खातिर गड्ढा कीन गा। जेहिसे नीचे लाग पाइप लाइन कट गई हवै। यहै से पूर कर्वी के सप्लाई नल मा पानी नहीं आवत आय। यहिसे लगभग तीन लाख मड़ई परेशान हवैं। सेतु निगम निर्माण उत्तर प्रदेश के अधिकारी का कहब हवै कि सरकार हमें काम का आदेश दिहिस हवै तौ हम करवाइत हन। कबै तक बनी हमहूं नहीं बता सकित हन