नहीं रहीं मशहूर हिरोइन नंदा

nannnda
नंदा अब

ये समां, समां है ये प्यार का, किसी के इंतजार का। अगर आप पुरानी हिंदी फिल्मों के शौकीन हैं तो आपने ये गाना जरूर सुना होगा। गाने में कलाकार आपको याद होंगी। सुन्दर सी मुस्कान वाली नंदा। 25 मार्च को नंदा का दिल के दौरे से देहांत हो गया। आज से करीब साठ साल पहले नंदा ने हिंदी फिल्मों में काम करना शुरू किया। बचपन से नंदा ने फिल्मों में अपनी जगह बनाई और एक से बढ़ के एक फिल्मों में काम किया। जब जब फूल खिले, हम दोनों, इत्तेफाक और जोरू का गुलाम फिल्म खूब चलीं। 1982 में उन्होंने फिल्मों से संन्यास लिया। नंदा की दोस्ती फिल्मी जगत की हिरोइन आशा पारेख, वहीदा रहमान और हेलेन जैसे लोगों से थी। सभी उन्हें एक बेहतरीन हिरोइन और उतनी ही खास दोस्त की तरह याद करते हैं।

Nanda
नंदा तब