नहीं बनै राशन कार्ड

जिला चित्रकूट, ब्लाक कर्वी, गांव सेमरिया चरणदासी। हियंा के राजमनी, शिवमोहन सुक्खी समेत पांच लोगन के कउनौतान का राशन कार्ड नहीं बना आय। या कारन पांच बरस से परेशान रहत हवैं। प्रधान से कइयौ दरकी कहा गा, पै हमार ध्यान नहीं देत आय।
हिंया के शिवमोहन समेत लगभग पांच मड़इन का कहब हवै कि हम दलित जाति के मड़ई आहिन। हम पांच बरस से राशन कार्ड के मांग करित हन, पै आज तक कउनौतान का राशन कार्ड प्रधान नहीं बनवावत आय। राशन कार्ड न होय से बहुतै परेशानी होत हवै। प्रधान से कहित हन तौ वा आसरा बस देत हवै।
प्रधान देवराज कोटार्य का कहब हवै कि अबै राशन कार्ड नहीं बनत आय। जबै बनिहैं तबै बनवा दीन जई।
जिला चित्रकूट, ब्लाक मऊ गांव ओबरी मजरा चन्डाढ़। हिंया बीस बरस से लगभग आठ मड़इन का राशन कार्ड नहीं बना आय। या कारन उंई परेशान रहत हवै। प्रधान से कइयौ दरकी कहा गा, पै कउनौ ध्यान नहीं देत आय।
हिंया के गुडडी देवी, गेंदाकली समेत पांच मड़इन का कहब हवै कि हमै बीस बरस से प्रधान कउनौतान का राशन कार्ड नहीं बनवावत हवै। चाहै जउन प्रधान होय जबै उनका प्रधान बनै का होत हवै तौ घर घर जा के हाथ गोड़ जोड़त हवैं। प्रधान बन जात हवै तौ घूम के गरीबन कइती देखत तक नहीं आय। जउन मड़ई दिन भर मजूरी करित हन तौ खर्चा तक का नहीं पूर परत आय।
प्रधान भागवत द्विवेदी का कहब हवै कि सर्वे होत हवै सर्वे के बाद राशन कार्ड बनिहैं तौ बनवा दीन जई।
जिला चित्रकूट, ब्लाक कर्वी, गांव रामपुर माफी। हिंया के प्रेमता अउर रानी का कउनौतान का राशन कार्ड नहीं बना आय। या कारन चार बरस से राशन र्काउ बनवावैं खातिर परेशान हवैं। राशन कार्ड बनवावैं खातिर कइयौ दरकी प्रधान सावित्री देवी से कहा गा, पै वा नहीं ध्यान देत आय। प्रधान सावित्री देवी के मनसवा राजू नैन का कहब हवै कि या दरकी राशन कार्ड बनवावैं के कोशिश कीन जई। हिंया के मड़ई कहिन कि अगर राशन कार्ड बन जाये तौ थोइ नून रोटी का सहारा होइ जाये। काहे से रोजै के मजूरी कइके घर का खर्चा नींक से नहीं चल पावत आय। यहै से सोचित हन कि राशन कार्ड बनी तौ कुछौ गल्ला मिलै लागी।