नहर ले सकत जान

ई रास्ता से निकरत आदमी
ई रास्ता से निकरत आदमी

जिला महोबा, ब्लाक जैतपुर, गाँव बौरा सतारी। एते हरिजन बस्ती के बीच से लगभग पचासन साल पुरानी नहर निकरी हे। जोन बेलाताल तालाब से आई हे। जीमे पुलिया न होय से हजारन आदमियन के जान को खतरा बनो रहत हे।

कौशिल्या,गंगा, चन्दबाबू ओर तिजुआ ने बताओ कि बस्ती के बीच से पचासन साल से नहर निकरी हे। जीमे पुलिया नई बनी आय। हम अपने निकरें खे लाने कहूं बिजली को खम्भा तो कहूं पेड़ की डरार धरे हें, पे रात के निकरें में पांव फिसले के कारन गिंरे से जान को खतरा बनो रहत हे।
मंगलदास, गुलाबरानी ओर राजकुमार बताउत हें कि नहर की सफाई दस साल से नई भई। जीसे नहर में बड़ो-बड़ो चारा हे। जीखे कारन गन्दगी ओर मच्छरन की भरमार हे। ओर नहर में पुलिया बन जाय तो निकरें के लाने नींक हो जाय, ओर सफाई करा दई जाय तो गन्दगी ओर मच्छरन से भी छुटकारा मिल जाये।
सिंचाई विभाग के ड्राफ्टमैन (प्रारूप कार) भागीरथ वर्मा ने बताओ कि ओते एक किलो मीटर की दूरी में पुलिया न होहे तो पुलिया बनवाई जा सकत हे। ओर निकरे में ज्यादा परेशानी हे, तो ग्राम पंचायत (प्रधान) मनरेगा के बजट से छोट पुलिया बनवा सकत हे।
प्रधान शोभारानी ने बताओ कि हमाये खाते में सरकार इत्तो बजट नई भेजत आय कि नहर में पुलिया बनवा सकन।