नब्बे बीघा जमीन में भई छह कुन्तल पिसिया

nari photo taza pez copy copyजिला महोबा, ब्लाक पनवाडी, गांव नैकपुर। ई गांव को राविन्द्र राजपूत कहत हे की उनके 90 बीघा जमीन में 6 कुनतल गेंहू भओ हे। जीमें उनकी लागत तक नई निकरी आय।
राविनद्र बताउत हे कि हमाये तीन भाई के बीच में 90 बीघा जमीन हे। उ पूरी जमीन में पिसिया गेंहू बोओ हतो, पे इ साल सूखा परे खे कारन पूरी जमीन में कुल 6 कुन्तल गेंहू भओ हे। अब हम लोग उतने गेंहू में बेच के घर खर्च ओर पढ़ाई लिखाई करे कि खाये खा रख ले। काये से कि अगर हम नई पढ़े आय, तो सोचत हे कि बच्चन ही पढ़ ले। इ मारे उनकी पढ़ाई भी नई बंद करा सकत हे। एई कारन बच्चन खा कर्ज लेके पढ़ाउत हे। जीसे गांव को एक लाख रूपइया कर्ज हो गओ हे। अब इसे ज्यासदा तो गांव में भी कर्ज नई मिल सकत हे। इसे लागत हे कि सरकार से कुछ मद्द मिले नई गिरिन कार्ड बनवे या फेर जमीन बेचे खा परी। एई तान जगननाथ के 6 बीघा खेत में दो कुन्तल पिसिया निकली हे।