नदी दूर, हैंडपंप सूखे, टैंकर रुकते नहीं, कैसे बुझे प्यास झाँसी के लहरगिर्द गाँव के लोगों की

जिला झांसी, गांव लहरगिर्द मुख्यमंत्री जी को बुंदेलखंड की बोहतई चिंता हे एसो सिंचाई मंत्री ने कई। जा के पहले भी मंत्रियन को बुंदेलखंड की चिंता रई लेकिन लहरगिर्द गांव के आदमी परेशान हे हैण्डपम्प में पानी नइया टेंकर उनके इते रुकत नइया अगर टेंकर आत भी हे तो पानी कम और आदमी ज्यादा हे।
पिस्ता देवी ने बताई के जा गांव में पानी ही नइया एक हैण्डपम्प हे सो बो भी सूख गओ। पानी भरबे के लाने दूर जात गांव से बाहर पूरो दिन जई में चलो जात। पानी ही नइया केसे का करे। अगर टेंकर आत भी हे तो लड़ाई होत पानी भरइ नइ पात। एक टेंकर पे कम से कम हजार बर्तन आ जात।
अबे एक हफ्ता भओ जब जल संस्थान गये ते कह देत पानी आहे आहे भीड़ देखत सो अंदर ही नइ जान देत भगा देत। और अधकारी खुद नइ मिलत चपरासी से कह देत के बोल दो सुनवाई हो जेहे।निशा यादव ने बताई के रोज टेंकर इतेइ से निकरत रोको तो रुकत ही नइया। हमाय मुहल्ला में आत ही नइया और पानी की बोहतई परेशानी हे।
अमित यादव ने बताई के सब आदमियन को रुपइयन से मिलत पानी एक डब्बा दस रुपइया को तीन चार सौ रुपइया एक दिन के लग जात। हैण्डपम्प हे नइया हमाय ते पार्षद से कओ सो कत के दस पंद्रह आदमियन के दसखत करा के लेयाओ।
धर्मपाल सिंह सिंचाई मंत्री उत्तर प्रदेश ने बताई के हम डी एम् से आज ही बात कर हे और पानी टेंकर की कोनऊ कमी नइया।

रिपोर्टर- सोनी

18/05/2017 को प्रकाशित