नई मिलत शादी अनुदान को रूपइया

काजल को बाप बताउ समस्या
काजल को बाप बताउ समस्या

जिला महोबा ब्लाक चरखारी कस्बा भैंसासुर मोहल्ला वार्ड नम्बर तेरह। श्रीप्रकाश सेन ने आपन बिटिया के शादी मई 2013 में करी हती। ऊने शादी अनुदान को रूपइया मिले खे लाने 3 जुलाई 2013 खा समाज कल्याण आफिस में फारम जमा करो हतो, समाज कल्याण वाले दस हजार रूपइया को बिल मांगत हें।
श्रीप्रकाश के भाई शिवशंकर ने बताओ कि अपनी भतीजी काजल की शादी मुस्कुरा के मनीष सेन के साथे करी करी हती। मोओ भाई श्रीप्रकाश पागल हे ओर भोजाई अपनी चार बिटियन को पेट बनी मजूरी करके पालत हती। गरीबी हालत होंय के कारन बिटिया की शादी हमने “शिवपाल सम्मेलन चरखारी” से करी हती। फिर भी हमाओ दान दहेज देय में साठ हजार रूपइया लग गओ हे। हमने 8 जुलाई 2013 खा फारम भरो हतो। पे समाज कल्याण वाले हम से सौ रूपइया को हलफनामा ओर दस हजार रूपइया के बिल मांगत हें। अब हम चार महीना बाद नगद बिल किते से पेबी। बिल वाली बात विभाग वालेन ने पेहले नई बताई हे।
समाज कल्याण के कनिष्ट लिपिक बन्दना पाखरे ने बताओ कि दस रूपइया को हलफनामा दलित जाति खा लागत हे। पिछड़ी जाति वालेन खा सौ रूपइया को लागत हे। हलफनामा बाद में लेय को कारन हे कि कोनऊ खा रूपइया मिलत हे, कोनऊ खा नई मिलत आय। एईसे जभे रूपइया मिले खा स्वीकृत हो जात हे। तभे ऊसे सौ रूपइया को हलफनामा लओ जात हे
श्रीप्रकाश को दस हजार रूपइया पन्द्रह दिन पेहले ऊखें खाते में भेज दओ हे।