दहेज खातिर लिहिन जान

kashai gadhariyan purva mahila muddaजिला चित्रकूट, ब्लाक कर्वी, कस्बा रामघाट। हिंया के राकेश पाल का आरोप हवै कि वहिके बहिनी आशा का ससुराल वाले 21 मार्च का आगी लगा के मार डारिन। रपट कर्वी कोतवाली मा लिखाइगे हवै।
राकेश पाल का कहब हवै कि आशा के शादी कर्वी ब्लाक, गांव कसहाई, गड़रियन पुरवा मा रहैं वाले विनय पाल के साथै 2 जून 2014 का भे रहै। ससुराल वाले शुरू से मोटर साइकिल अउर सोने के जंजीर मांगत रहैं। शादी होय के बाद तीन दरकी आशा ससुराल गे रहै। 21 मार्च का सास राजपति ससुर शिवदयाल उर्फ बुढ़ौना अउर पति विनय पाल आशा से लड़ाई करिन अउर मिट्टी का तेल डार के आगी लगा दिहिन।
आशा के सास राजपति कहिस कि आशा के पेट मा पांच महीना का बच्चा रहै। वा उल्टी करत रहै। आशा हमसे कत्तौ नहीं बोलत रहै। अपने कमरा मा अकेली रहै। जबै आशा आगी लगाइस तबै कउनौ घर मा नहीं रहै। हमका फंसा दिहिस हवै।
कर्वी कोतवाली के मुंशी छेदीलाल का कहब हवै कि सास राजपति, ससुर शिवदयाल उर्फ बुढ़ौना अउर पति विनय पाल के खिलाफ 498 ए (मानसिक रूप से परेशान करब) 304 बी (दहेज हत्या) अउर 3/4 (दहेज मांगब) धारा लाग हवै। तेरही के बाद ससुर अउर पति का जेल भेजा जई।