दबंगई, मारपीट के बीच खो गया चित्रकूट जिले के चित्रवार निवासियों का गल्ला

जिला चित्रकूट, ब्लाक मऊ, गांव चित्रवार जेहिके लाने राशन आय वहिका नहीं मिलत हवै। 6 मई का या मामला सउहें आवा हवैं चितवार गांव मा। जबै हिंया एस. डी .एम जांच खातिर आये रहै।
तबै मड़ई बताइन कि तीन महीना से राशन नहीं मिला तौ कोटेदार मड़इन साथै मारपीट करिस अउर मेहरिया के ऊपर भी हाथ चलाइस हवैं। या मामला मा दरोगा प्रमोद कुमार का कहब हवै की जांच होत हवै ।
रानी अउर मनपतिया बताइस कि जबै मीटिंग होत रहै तबै येत्ता बस कहा हवै कि गल्ला नही मिलत तौ खुसरो गाली दिहिस हवै अउर मारपीट करिस हवै। सतीश चन्द्र बताइस कि कोटेदार अबै भी मारे के धमकी देत हवै। एस. डी. एम के सउहें घटना भे हवै पै उंई जांच का भरोसा दइ के कुछौ नहीं करिन आय।
इंद्रकान्ती बताइस कि हमें कोटेदार के मड़ई लातघूंसा से मारिन हवै अउर रिवाल्वर भी देखावत रहै। तब हम थाना गये हन पै हुंवा कुछौ सुनवाई नही भे आय। काहे से हुंवा गड्डी दइ दीन गे हवै। सरकार से सवाल हवै कि आखिर मेहरियन का काहे मारा गा हवैं। जनता का तौ हक हवै कि सरकार से हजार बार पूंछत हवै। एस. डी. एम के सउहें घटना भे हवै पै कुछौ सुनवाई नहीं आय।
एस. डी. एम . कोटेदार के निरस्त होय के बाद कहत हवै। पै सच्चाई तौ या हवै कि गरीबन का पेट मारा जात हवै सुनवाई तौ कत्तो होत नहीं आय।

रिपोर्टर- सुनीता देवी

17/05/2017 को प्रकाशित