तीन बरस से यहिनतान होत दुर्घटना

रामसिंह
रामसिंह
नवल किशोर
नवल किशोर

जिला चित्रकूट, ब्लाक कर्वी, गांव बालापुर माफी। हिंया के चुन्नी देवी अउर सुमित्रा समेत तीन मेहरिया मिट्टी खोदैं मध्य प्रदेश मझगवां के सिरसावन गांव 30 अक्टूबर 2013 का गई रहैं। वहिमा से चुन्नी अउर सुमित्रा पहडि़या के बीच दबके मरगें अउर दुइ वहिमा दब गें। हल्ला होय मा पास के मड़ई पहुंचे अउर मलवा से मेहरियन का निकारिन। सूचना मिलै मा मझगवां के एस.डी.एम शैलेन्द्र सिंह आय रहै।
गांव के रामसिंह का कहब हवै कि दीवाली का त्यौहार रहै। या कारन महतारी चुन्नी देवी घर के छपाई करैं खातिर मिट्टी लें गई रहै। वहिसे मना करत रहौं कि हुंवा मिट्टी लें न जाये, पै वा नहीं मानी। वहिके साथै पड़ोस मा रहै वाली चार मेहरिया अउर चली गई। जइसेन पहडि़या से मिट्टी खोदिन वइसेन पहडि़या भसक गे अउर महतारी चुन्नी देवी अउर सुमित्रा मउके मा मरगें। तीन मेहरिया मलवा मा फंस गई। हम तीन भाई अउर एक बहिनी हन। बहिनी निशा के शादी नहीं भे आय। वा दिमाग से कमजोर हवै। महतारी के मरैं के बाद बहिनी के कउन देख भाल करी। यहै सोच बना रहत हवै। काहे से कि महतारी चुन्नी देवी वहिके साथै रहत रहै।
बालापुर माफी गांव का नवल किशोर पटेल पान का डिब्बा सिरसावन गांव मा धरे हवै। वा बताइस कि वा पहडि़या मा तीन बरस से बराबर मेहरियन के मउत होत हवै। मेहरिया मानत नहीं आय। हुंवा से मिट्टी खोदै मा रोक लागै तौ सही रहै।
कर्वी तहसीलदार भगवानदास का कहब हवै कि या मामला मा मध्य प्रदेश सरकार कुछौ कइ सकत हवै।