टैक्स लेत हवैं,पै सफाई नहीं होत

खुदै सफाई करत
खुदै सफाई करत

जिला चित्रकूट, ब्लाक मानिकपुर, कस्बा सरैंया। हिंया पांच बरस से सफाई कर्मी नहीं आवत हवै। या कारन सड़क अउर गलियन मा गंदगी भरी रहत हवै। जघा जघा कूड़ा का ढेर लाग रहत हवै। जबै कि जिला पंचायत अधिकारी हमसे हर बरस ढाई सौ रुपिया लेत हवै। तबहूं सफाई समय से नहीं होत हवैं। या कारन दुकान दारन का बहुतै परेशानी झेलै का परत हवै। या बात सरैंया के लगभग दस लोग बताइन हवैं।
कस्बा के जानकी प्रसाद, शिवदास, अउर प्रेम नारायण का कहब हवै कि हमरे तीन हजार के आबादी हवै। येत्ती आबादी मा सफाई न होय से गंदगी बनी रहत हवै। कूड़न के ढेर से बदबू आवत हवै। मड़इन का निकरब बइठब मुश्किल होत हवै। न प्रधान सुनत आय अउर न तौ अधिकारी। हम केहिसे शिकायत करेन। प्रधान गीता का कहब हवै कि हर बरस सरकार टैक्स जमा करा लेत हवै,पै सफाई कर्मी के व्यवस्था नहीं करत हवैं। हमरे लगे एक सफाई कर्मी हवै। वहिका कहां कहां भेजी। हर बरस अधिकारी हर मड़इन से दुइ सौ रुपिया जमा करा लेत हवै, पै सफाई कर्मी नहीं भेजत हवैं।