जलावैं के करिस कोशिश

बिट्टी
बिट्टी

जिला चित्रकूट, ब्लाक मऊ, गांव खण्डेहा। हिंया के बिट्टी के शादी छह बरस पहिले जिला बांदा ब्लाक बबेरू गांव अरमार मा नत्थू के साथै भे रहै। वा नींक न होय का बहाना कइके मारत पीटत रहै। या कारन बिट्टी एक बरस से अपने मइके मा रही हवै। फिर ससुरे वाले लेवा गे हवैं। अउर चाय से जला दिहिन हवैं।
बिट्टी का कहब हवै कि शादी होय के एक महीना नींकतान से राखिस हवै। दूसरे महीना से मार पीट करैं लाग, पै मैं सबै कुछ सहत चली आई हवंै। कत्तौ कहै नींक नहीं आहि कत्तौ कहै काम नहीं करत आही। यहै से मैं एक बरस अपने मइके मा रही हौं, पै ससुराल वाले दुबारा से मोहिका लेवा गें हवै। फिर से मारैं पीटैं लाग अउर 18 मई 2014 का गरम चाय देंह मा डार दिहिस हवैं। यहै से मैं जल गे हौं। अब मैं चुप न बइठिहौं यहिके ऊपर कारवाही करिहौं।
मनसवा नत्थू का कहब हवै कि वा अपने से मइके चली गे हवै। जहां का मना करत हौं हुंवा जात हवै। मैं मना करत हवै तौ नहीं मानत आय। मैं चाय नहीं डारे आंहू चाय छानत रहैं तौ हाथ लाग गा हवै तौ चाय अड़ा गे हवै।