जमीन के रंजिस मा जिंदा जलाइन

 देवी दयाल कुशवाहा के ही पशुबाड़ा मा जलावें खातिर बनाई गए रहै चिता
देवी दयाल कुशवाहा के ही पशुबाड़ा मा जलावें खातिर बनाई गए रहै चिता
मारपीट मा रजपतिया का तीन जघा से टूट गोड, एक हाथ दुइ जघा से अउर दूसर हाथ एक जघा से टूट
मारपीट मा रजपतिया का तीन जघा से टूट गोड, एक हाथ दुइ जघा से अउर दूसर हाथ एक जघा से टूट

जिला बांदा, ब्लाक कमासिन, गांव गुरौली सपहाई। हेंया जमीन के रंजिश मा देवी दयाल कुशवाहा का जिंदा फूंक दीन गा। बबेरू कोतवाली मा छह लोगन के खिलाफ हत्या के रपट लिख गे है।

देवी दयाल के लड़की चम्पा रपट लिखाइस जेहिमा कहिस ’13 जून रात एक बजे मोहल्ला के मनुवा, अखिलेश, राजाराम, मिथलेश, महेश अउर मदन दरवाजा खटखटाइन। मोर बाप दरवाजा खोलिस तौ छहो जने वहिका पकड़ लिहिन। मुंह मा कपड़ा भर दिहिन। बगल मा बने पशुबाड़ा मा लइगे अउर कंडा लकड़ी के चिता बना के आगी लगा दिहिन। मड़ई आगी की लपटैं देख भाग। देखिन तौ देवीदयाल जलत रहै। मड़ई पुलिस का फोन करिन तौ बबेरू कोतवाली से पुलिस आई। डी.एम. एस.पी. डी.आई.जी. के अलावा विधायक अउर सांसद भी मउके मा पूछताछ करैं आये हंै।’

देवी दयाल के औरत रजपतिया का कहब है ‘महेश हरैं हमरे खेत के जमीन दबा के आर.सी.सी रास्ता बनवा दिहिन। मैं मना करेंव तौ 20 अप्रैल का लाठी डण्डा से मोर हाथ गोड तोड़ दिहिन। अबै भी प्लास्टर चढ़ा है। बबेरू कोतवाली मा रपट लिखायेंव तौ कारवाही नहीं भे। कारवाही होई जात तौ आज जान न जात पै पुलिस रपट लिखावैं के बाद भी कारवाही नहीं करिस।’

महेश हन के परिवार के औरत राजमनी कहिस कि झूठ केस मा फंसा के हमरे आदमियन का जेल भेजैं चाहत हैं। काहे से हमार उनसे जमीनी रंजिस मा लड़ाई चलत है।
बबेरू कोतवाली प्रभारी देवेन्द्र मिश्र कहिन कि मुकदमा लिख गा है। मुकदमा मा धारा 302 (हत्या) 452 (घर मा घुसब) 147, 148, 149, (बलवा, जउन मामला मा छह लोग से ज्यादा लोग शामिल होय) अउर 201 आई.पी.सी. लाग है।

डी.आई.जी. ज्ञानेश्वर तिवारी कहिन कि या मामला मा दुई लोगन का 17 जून का पकड़ लीन गा है। बाकी लोगन का जल्दी गिरफ्तार कीन जई।