‘जनता हिन्दुस्तान की’

आओं बच्चों तुम्हें दिखायें 

शैतानी शैतान की
नेताओं से बहुत दुखी है
जनता हिन्दुस्तान की

बड़े बड़े नेता शामिल है
घोटालों की थाली में
सूटकेस भर के चलते है।
अपने यहां दलाली में

देश धर्म की नहीं है चिन्ता
चिन्ता निज सन्तान की
नेताओं से बहुत दुखी है
जनता हिन्दुस्तान की

चोर लुटेरे थी अब देखो
सांसद और विधायक है
भिखमंगे में गिनती कर दी
भारत देश महान की

हर रोज मरती जाती है
जनता हिन्दुस्तान की
आओं बच्चों तुम्हें दिखायें
शैतानी शैतान की।
नाम-कोमल, इलाहाबाद