जगत न बनै से कुआं मा गिरै कै डर

gaow finalजिला अम्बेडकर नगर ब्लाक कटेहरी, गांव लखैचनपुर। हिंआ कुआं लगभग सौ साल पुरान बाय लकिन यकै जगत नाय बनीं बाय आवै जाय वाले रास्ता के बीच मा बना बाय। घास से ढंक गै बाय जे मनई ध्यान ना दे तौ कुआं मा गिर जाये।
राजेष वर्मा, अजीत वर्मा बताइन कि पूर्वज के जमाने कै बना कुआं हुवय पहिले मनई कुआं से पानी पियत रहा। अब घरे-घरे नल होइगै बाय कुआं कै जरूरत नाय बाय। कुआं गांव के बीच रास्ता मा घास से देखात नाय वही मा छिप गै बाय जे तौ जानत बाय ऊ तौ बचाय के चला जाये जे अन्जान बाय ऊ मनई हुवय चाहे गेदहरा गिर जाये। अप्रैल 2014 मा अजीत कै पडि़या गिर गै रही जब भी कउनौ जानवर तुराय लियाथिन तो डर लागा थै कि कआं गिर न जाय। कइयौ जने कै प्रधानी आए लकिन केहू प्रधान ध्यान नाय देतिन।
प्रधान देवमणि बताइन कि अक्टूबर 2013 मा कुआं कै जगत बनवावत रहेन ईटा मोरिंग सब सामान गिराए रहेन। गांव कै कुछ मनई विवाद कई लिहिन केहूं कहै कि कुआं कै जगत बने तौ कंेहू कहै कि न बने यह नाते जगत बन नाय पाइस। यहर फिर आचार संहिता चालू होई गै। अब काम षुरू होय तौ जगत बनवाय जाये।