खुले मा रहिके करत गुजारा

padari ganvजिला चित्रकूट, ब्लाक कर्वी, गांव पड़री। हिंया के बेला का आरोप हवै कि इन्द्राआवास के तहत कालोनी नहीं मिली आय। यहै से बिना छप्पर छानी के खुले मा रहत हौं। कालोनी खातिर प्रधान रामपाल से 24 फरवरी का मांग कीन गे, पै कउनौ सुनवाई नहीं भे।
बेला का कहब हवै कि मोरे कमाये वाला कउनौ नहीं आय। या समय मोर उम्र लगभग सत्तर साल के हवै। हाथ गोड़ भी नहीं चलत आय कि अपनेे से कमा के कमरा मा छप्पर छवा सकौं। यहै से गर्मी बरसात अउर जाड़ा के मौसम मा परेशानी आवत हवै। प्रधान रामपाल से एक कालोनी मांगत हौं, पै वा नहीं सुनत आय।
प्रधान रामपाल का कहब हवै कि गांव मा कुल इन्द्राआवास सत्रह आय रहैं तौ पात्र मड़इन का दइ दीन गे हवैं। बेला का नाम बी.पी.एल. सूची मा नहीं आय। यहै से वहिका कालोनी नहीं मिली हवै।
कर्वी ब्लाक के ए.डी.ओ. सुखलाल कहिन कि बेला कालोनी का फार्म भर के ब्लाक मा जमा करै। अगर अब कालोनी अइहैं तौ वहिका कालोनी मिली।