खाना खर्चा देब कइ दिहिस बन्द

बिन्नो
बिन्नो

जिला चित्रकूट, ब्लाक मानिकपुर, गांव खिचरी। हिंया के बिन्नो देवी चालिस बरस पहिले आर.पी.एफ. श्यामलाल के साथै कोर्ट मैरिज करिस रहै, पै श्यामलाल एक बरस से वहिका अपने साथै नहीं राखत आय। वहिके दुइ बिटिया भी बड़ी-बड़ी हवै अउर एक लड़का हवै। उनका खाना खर्चा भी नहीं देत हवै।
बिन्नो रो रो के आपन समस्या बताइस कि बड़े सउख के साथै श्यामलाल से शादी करे रहौं कि मोहिका नींक से रखी। चालिस बरस तौ साथ मा रखिस, पै अचानक एक बरस पहिले घर से निकार दिहिस हवै। या कारन मोहिका खाना खर्चा के परेशानी उठावै का परत हवै। बिटिया का खर्चा कहां से चलाऊ। पांच महीना पहिले खाना खर्चा देत रहै अब बन्द कइ दिहिस हवै तौ फेर से दरखास दीने हौं। पहिले दुइ बिसुवा जमीन दें का अउर दस लाख रूपिया दें का कहत रहै, पै अब वहौ दें का तैयार नहीं हवै। कहत हवै मैं रिटायर होइ गयेंव तौ कहां से देंव। श्यामलाल का कहब हवै कि मैं बिटियन के शादी करै का तैयार हौं। पहिले से रूपिया देहौं तौ खर्चा कइ देइ।