क्यों कृषि व्यवसाय नहीं है?

Judy Walgren415-205-6843क्या आपको लगता है कि कृषि करना एक व्यवसाय है? क्या कृषि में ऐसा कुछ है जो इसे मूलरूप से व्यवसाय से अलग करता है?
किसी दूसरे व्यवसाय को हड़ताल, मजदूरों की समस्याएं या अचानक आने वाली मुसीबतों से ही दो-चार होना पड़ता है लेकिन कृषि एक ऐसा व्यवसाय हैं जहाँ उत्पादन के साथ-साथ उसके मूल्यों को लेकर भी खतरा मंडराता रहता है।
हालांकि एक किसान के लिए उत्पादन संबंधी नुकसान और खतरे उठाना रोज की बात है। जिसमें कभी भी कम वर्षा, अधिक वर्षा या ओलाबारी के कारण फसल की पैदावार पर असर पड़ता है। यही नहीं, खड़ी फसल पर भारी वर्षा फसल को बिलकुल नष्ट कर देती है जो कई बार किसान की आत्महत्या का कारण भी बन जाती हैं।
यही कारण है जो कृषि को व्यवसाय से अलग करता है और इसी कारणवश किसान सरकारी सब्सिडी पर निर्भर रहते हैं।
कृषि व्यवसाय तब है जब आप हर चीज फुटकर दामों में खरीदें और थोक मूल्यों पर बेच दें जबकि ज्यादातर कारोबारी थोक में खरीदते हैं और फुटकर मूल्यों पर बेचते हैं।
भारत में कृषि एक ऐसा व्यवसाय है जिसका विस्तार करना अपराध माना जाता है।
दरअसल, हम और हमारी सरकार चाहती है कि किसान गरीब बना रहे. वो हमेशा सरकारी मदद, सब्सिडी और लोन पर निर्भर रहे क्योंकि अगर किसान बड़े पैमाने पर खेती करना शुरू कर देता है तो हम सभी उस पर शक करने लगते हैं। हमें किसान को योजनाओं में बांधना, किश्तों में जकड़ना और सरकार का मोहताज बनाये रखना अच्छा लगता है।
आशा है कि आने वाले समय में किसान खुद दूसरे व्यवसायों को गंभीर चुनौती देंगे।