कोन कारण गेल प्राण?

जिला सीतामढ़ी, प्रखंड रीगा, गांव उफरौलीया गोट। उहां के लोग कहलथिन कि 25 मार्च 2015 के लगभग दोपहर दिन में गौरी राय के बहू सुगंधा गला में फंदा डाल के मर गेलथिन। उनका मायके के लोग दहेज हत्या के केस कयले छथिन।
गांव के लोग सब कहलथिन कि अभी शादी के एक साल पुरे में एक महिना कम ही हई। शादी के बाद लड़की दुरागवन कके आयल रहलथिन। लड़का विदेश में कमाईत रहलथिन जे 23 मार्च के घरे अलई अउर उ 25 मार्च के मर भी गेलई। सुगंधा अपना देवर सब के कहइत रहलथिन कि भाईया आयत त मर जायब। दहेज के नामो न लेइत रहलथिन सास ससुर खाली लड़की पर शादी कयले रहलइ। लेकिन झुठ मुठ के केश बेटी वाला दहेज के कारण कयले छथिन। उनका तीन लड़का हई। सुगंधा सबसे बड़की बहु रहलथिन। खाना खाय ला जगावे गेलइ त गेट न खोललइ। गेट तोड़ के गेलइ त अंदर में मर गेल रहइ। इहां तक कि लाश देखे ला बेटी वाला के भी बोलबलथिन। बेटी वाला अलथिन त लाश लेके थाना में चल गेलथिन अउर दहेज के लेके केश कदेलइ।
थाना प्रभारी शंभू शरण कहलथिन कि लड़की के बाबू जी बिन्देश्वर राय केश कयले छथिन। जेकर घर शिवहर जिला कि प्रखंड पुरनहीया गांव बाराही जगदीशपुर में हइ। जेकर कार्ड संख्या 77/15 धारा 302 (हत्या), 120बी(आपराधिक साजिस), 34 भारतीय दण्ड विधान लागल हई। ससुराल में सब अभी भागल हई। लेकिन सास इंन्दराश देवी पकरा के जेल गेल हई।