केसे चले परिवार

003जिला महोबा, ब्लाक कबरई, गांव कालीपहाड़ी को मजरा गुगौरा। जा गांव उर्मिल बांध के डूब क्षेत्र में जात हे। जीसे पूरो गांव भुखमरी की कगार में आ गओ हे। एई से गांव के आदमियन ने मुआवजा पाये खे लाने 22 जनवरी 2014 खा डी.एम. खा दरखास देके मुआवजा ओर घरन खे मांग करी हे।
गांव के रामपाल, राजाभइया, अजयपाल, पंचमसिंह के साथे पचासन आदमियन ने बताओ कि हमाओ पूरो गांव डूब क्षेत्र में जात हे। आधा गांव पहाड़ में बसो हे। जीसे सिंचाई विभाग वाले आधे गांव खा डूब क्षेत्रों में लओ हे। जभे कि गांव के दोनऊ केती नाला हे। गांव जाये खे लाने कोनऊ रास्ता नइयां।
अरविन्द, अमरसिंह, वीरपाल, लवकुश, चेतराम, घसीटा ओर कालीदीन ने बताओ कि बरसात के समय में छोट-छोट लड़का ओर जानवर डूब सकत हें। जीसे पूरे गांव खा बाहर जाके रहें खा परहे। हम गरीब आदमियन खे इत्तो रूपइया नइयां कि दूसरी जगह आपन घर बनवा लेबी। अगर हमें मुआवजा न मिलहें तो हमाओ पूरो परिवार भूखन मर जेहे।
सिंचाई विभाग के सींच पर्यवेक्षक सुघरलाल ने बताओ कि ऊ गांव की जमीन लगभग 109 हेक्टेयर ओर 60 प्रतिशत आबादी डूब क्षेत्र में जात हे। जीसे 13 लाख 6 हजार 720 प्रति हेक्टेयर के हिसाब से मुआवजा ओर रहें खा जमीन दई जेहे।