केंद्र और प्रदेश दोनों सरकारें नाकाम

जिला सुल्तानपुर। 6 जून को सुल्तानपुर में रिहाई मंच ने एक प्रेस कांफ्रेंस की। इसमें मुख्य मुद्दे थे भ्रष्टाचार, सांप्रदायिक और जातिगत हिंसा, खेती का संकट और किसान आत्महत्या।

रिहाई मंच नेता तैय्यब बारी खान और मोहम्मद आरिफ ने कहा कि पिछले दिनों मुस्लिम, दलित और आदिवासियों पर सांप्रदायिक और जातिगत हमले हुए हैं। इन हमलों को रोकने में प्रदेश की समाजवादी पार्टी और केंद्र सरकार बिल्कुल कामयाब नहीं हुई। किसान आत्महत्या कर रहे हैं, खेती लगातार संकट से गुजर रही है। हाशिमपुरा जनसंहार में आए फैसले से भी साफ है कि प्रदेश सरकार को मारे गए बयालिस बेगुनाहों को इंसाफ दिलाने से ज्यादा गुनहगार जवानों को बचाने में दिलचस्पी रही है।

रिहाई मंच के सदस्य राजीव यादव ने बताया कि सपा सरकार ने प्रदेश में फिल्म सिटी, स्मार्ट सिटी और हाईवे के नाम पर किसानों से ली गई जमीन के बदले छह गुना दाम देने का वादा किया था। लेकिन किसानों को उचित मुआवज़ा नहीं मिला।