कुपोषण अउर गर्भवती औरतन खातिर पांच सौ पचीस करोड़ रुपिया के घोषणा

webजिला बांदा। उत्तर प्रदेश सरकार हर साल के जइसे या साल भी 2016 खातिर यू.पी. बजट के घोषणा करिस है। जेहिका लइके ब्लाक नरैनी मा बाल विकास परियोजना अधिकारी विमलेश कुमार से कुछ बात चीत जउन इनतान है-
बाल विकास परियोजना अधिकारी विमलेश कुमार बतावत हैं कि मुख्यमंत्री जउन 5 सौ 25 करोड़ का बजट पास करैं कि घोषणा करिन हैं। वहिमा से 4 करोड़ गर्भवती औरतन के खातिर खाना अउर एक फल के व्यवस्था का है अउर 1 सौ 25 करोड़ रूपिया अति कुपोषित बच्चन खातिर है। या बजट आंगनबाड़ी कार्यकर्ती अउर प्रधान के सह खाते मा आई। आंगनबाड़ी केन्द्र मा खाना बनी अउर वहिके खातिर समय रखा जई। 10 से 11 या फेर 11 से 12 वा समय उंई औरतन का बोला के खाना खवावा जई। खास बात यह है कि या बजट का अप्रैल 2016 से लागू होय का रहै, पै प्रयोग कि तौर से मार्च से ही शुरू कइ दीन गा। जउन जिले मा सी.डी.ओ. अउर डी.एम. के गोद लीन गांव हैं। पहिले होंआ शुरू होई। या काम जिले से डी.एम. या सी.डी.ओ. के माध्यम से शुरू होई अउर यहिके बाद एक महीना के रिपोर्ट पेश होई। यहिके बाद पूरतान से काम चालू होई। अखिलेश सरकार के मंशा है वहिक सोंच सकारात्मक अउर अच्छी है। अगर या पूरतान से लागू होइगे तौ अच्छा होई। जइसे कि आंध्रा मा है कि होंआ पहिले जउन बच्चा पैदा होत रहैं उनका वजन दुई किलो से ऊपर नहीं होत रहै। जब से या योजना लागू कीन गे अउर 6 महीना बाद सर्वे कइ के देखा गा तौ निकल के आवा कि अब होंआ काफी बढ़ोत्री भे है। अब होंआ के बच्चा तीन किलो या वहिसे भी ऊपर पैदा होत हैं। यहिनतान अगर हेंया भी योजना सफल होइगे तौ कुपोषण से राहत मिली। यहिके अलावा अउर योजना जउन चलत हैं। उंई तौ लागू ही रहिहैं। या भारत देश मा सब से अच्छी अउर पहिली योजना आय। जउन मुख्यमंत्री लागू करैं के घोषणा करिन हैं।