कुछौ नहीं बचा मोरे लगे

teebi-ke-bemari
बरईमानपुर के मड़ई बतावत समस्या

जिला चित्रकूट, ब्लाक मानिकपुर गांव खिचरी। हिंया का सोहन चालिस बरस से टी. बी. के बीमारी से परेशान हवै। वहिके लगे रुपिया नही हवै कि आपन इलाज करा सकै। मानिकपुर सरकारी अस्पताल से वहिका कउनौ सुविधा नहीं मिलत हवै। या कारन वा दर दर भटकत हवै।
सोहन बताइस कि दस बरस मा पांच बीघा जमीन बेंच के आपन इलाज नये गांव छावनी मा कराये हौ। अब मोरे लगे कुछौ नही बचा हवै कि आपन इलाज करा सकौं मानिकपुर अस्पताल मा कइयौ दरकी गये हौं, पै मोर कउनौ नहीं सुनत आय।
मानिकपुर अस्पताल के अधीक्षक विनय कुमार का कहब हवै कि साहन जहां से दवाई करवाइस हवै तौ सोहन लाल हंुवा के कागज देखावै तौ जांच करवाई जई।