कालोनी को तारा खोलायें खा लगाउत चक्कर

IMG_1502महोबा शहर, मोहल्ला छजमनपुरा। एते की सुनिया बिच्छू पहाडि़या के कालोनी में तीन साल से रहत हती। अब ऊखे कमरा में एक महीना से ताला लगो हे। जीसे ऊ ताला खोलायें के लाने दो महीना से डी.एम., तहसील ओर नगर पालिका के चक्कर लगाउत हे, पे ऊखी कोनऊ सुनवाई नइयां होत आये।
सुनिया ने बताओ कि मोओ आदमी बंशी चार साल पेहले मर गओ हतो। में अकेले तीन साल से कालेनी में रहत हांे। मोये लड़का गोविन्द की तबियत खराब हती। जीसे में मौदहा चली गई हती। तभई डी.एम. गये तो मोये कमरा में ताला डार दओ। जभे में एक महीना के बाद लौट के आई तो कालोनी बन्द हती। मेने ताला खोलायें खा डी.एम. अनुज कुमार झा खा दरखास दई हे, पे कछु सुनवाई नई भई। में अपने भाई भोजाई के एते रहत हों तो ऊ कहत हें कि ते अपनी कालोनी में काय नई रहत हे। एई से में अपने कालोनी को तारा खोलायें के लाने दो दइयां तहसील दिवस में दरखास दई हे, तो ऊने भरोेसा दओ हतो कि नगर पालिका से तोये कमरा को ताला खोलवा दओ जेहे। मेंने नगर पालिका में कहो हे, पे नगर पालिका के कर्मचारी नई सुनत आय। ऊने कहो कि मोये कोनऊ सहारा नइयां। अगर कालोनी को ताला न खुलहे तो में आपन जान दे देहों।
नगर पालिका के बाबू श्याम मनोहर पाण्डेय ने बताओे कि ओते डी.एम. ने दो दइयां नोटिस भेजी हती। जभे कोनऊ जवाब नई मिलो। एई से ओते तारा लगा दओ हे। जभे तक डी.एम. के एते से आदेश ना आहे तो तारा न खोलो जेहे।