काम पर न होइ छइ सुनवाई

majdurजिला सीतामढ़ी प्रखंड बथनाहा गांव चकवा, पंचायत चकवा। इहां लगभग दस महादलीत के रोजगार के लेल नवम्बर 2013 में कर्ज के लेल आवेदन देले रहथिन। लेकिन उनका सब के आई तक कर्ज न मिललइ। इ कर्ज अनुसुचित अउर महादलीत के विषेश अंगी भूत योजना के तहत मिलेवाला रहई।
इहां के जगत सदा, किषोरी सदा, कहलथिन कि हम सब घरे बइठल रहइ छी या पंजाब कमाय जाइ छी। उहां से तीन चार महिना पर सिजन के अनुसार कमा के अबइ छी। ओही से घर परिवार चलइय। जब रूपईया खत्म हो जाइय त फेर पंजाब जाइ छी। रोजगार के लेल आवेदन विकास मित्र भरले रहे। सोचइत रहली  कि लोन मिल जाइत त अपने गांव में कोई रोजगार करके परिवार चलइती।
विकास मित्र राघनी देवी कहलथिन कि हम सब इ काम में बहुत मेहनत कयले छी। हमरा पुरा पंचायत में पचीस बेरोजगार लोग के रोजगार मिले के लेल लोन के आवेदन भर के कल्याण विभाग में देले रहली।
कल्याण पदाधिकारी पवन कुमार कहलथिन कि हम सात महिना से इहां न छी। लेकिन पटना से ही इ काम रूकल रहइ।