काम ज्यादा मजदूरी कम

जिला सीतामढी, प्रखण्ड रीगा, पंचायत रीग द्वितिय, गांव शिवनगर। उहाँ मध्य विद्यालय में रसोईया खाना बनावे से लेके बच्चा के खिलावे तक आठ घण्टा काम करई छई। लेकिन मजदूरी एक हजार रूपईया मिलई छई। जबकि एतना महंगाई मे एक हजार से कोई काम न होतई।
रसोईया तारा देवी, नगीना देवी, कुलदीप राउत, शान्ति देवी सब कहलथिन कि हम सब बच्चा के साथ मे विद्यालय अवई छी ओही समय से खड़े रहई छी। काम एतना अउर मजदूरी एके हजार रूपईया मिलई छई। दिन पर दिन महंगाई बढ़ते जा रहल हई। एई महंगाई में रसोईया के एक हजार से घर के काम, बच्चा के पढ़ाई मे दिक्कत होई छई। एई विद्यालय मे बच्चा के नमांकन चार सौ पैतीस हई। उपस्थिति लगभग चार सौ रहई छई। हम सब खाना बनावे से लेके खिलावे तक खड़े रहई छी। काम के अधार पर सबके रूपइया बढ़ई छई लेकिन हमरा सबके कहां बढ़ई छई?
प्रधानाध्यापक ओमप्रकाश चैधरी कहलथिन कि रसोईया के मजदूरी बढ़ावे के लेल सूचना आयल हई लेकिन लागू न होयल हई। प्रखण्ड शिक्षा पदाधिकारी मोहम्मद इस्लाम कहलथिन कि आचार संहिता के बाद रसोइया पर विचार कयल जतई।