करिन मीटिंग

करत मीटिंग
करत मीटिंग

जिला चित्रकूट, ब्लाक कर्वी, महिला समाख्या आफिस। हिंया 7 जनवरी 2014 का जननी शिशु सुरक्षा का लइके मीटिंग कीन गे। मीटिंग मा महिला समाख्या, उपज संगठन, दीया वेलफेयर, इब्तेदा संस्था, लखनऊ के सहयोग संस्था अउर खबर लहरिया पत्रकार समेत लगभग तीस लोग शामिल रहै। मीटिंग करैं का उद्देश्य रहै कि जननी शिशु सुरक्षा कार्यक्रम के तहत पहाड़ी ब्लाक मा अभियान चलावा जई।
सहयोग संस्था के कार्यकर्ता प्रवेश नाम के मड़ई का कहब हवै कि जननी शिशु सुरक्षा कार्यक्रम के जानकारी गांव-गांव जा के दीन जई। काहे से कि या कार्यक्रम के तहत गर्भवती मेहरियन अउर बच्चा पैदा होय वाली मेहरियन का हर सुविधा सेत मा मिलत हवै। जइसे जांच, गाड़ी, एक्सरा, खून, अल्ट्रासाउन, दवाई, साबुन अउर दस्ताना। अगर मेहरिया के आपरेशन से बच्चा पैदा होत हवै तौ वहिमा भी सेत मा सुविधा मिलत हवै। अगर कउनौ से दस्ताना खरीदैं खातिर कहा जात हवै तौ वा शिकायत कइ सकत हवै। भारत मा बच्चा पैदा होय के समय एक लाख मेहरियन के मउत अउर चित्रकूट जिला मा एक लाख तीन सौ छह मेहरियन के मउत होत हवै। या आंकड़ा खतम करैं खातिर या अभिायान चलावा जात हवै। यहिके जानकारी गांव के मड़इन का होब बहुतै जरूरी हवै।