करवा चौथ, प्यार की निशानी या पुरुष का दबदबा?