कतौ कूड़ा से भरी नाली तौ कतौ नाली ही निहाय

कूड़ा से बजबजात नाली
कूड़ा से बजबजात नाली

जिला बांदा, ब्लाक नरैनी, कस्बा डढ़वामानपुर का मजरा फतेहगंज। हेंया के कइयौ मड़ई छह महीना से नाली के सफाई का लइके परेशान हैं। कइयौ दरकी प्रधान शान्ती अउर सफाई कर्मी गेंदा लाल से कहिन, पै अबै तक सुनवाई नहीं भें आय।
वार्ड नम्बर 12 अउर 13 के अब्दुल खान, रज्जन सोनी अउर छकौड़ी बतावत हैं कि या रास्ता के नाली कूड़ा से पूरी है जेहिसे मड़इन के नरदन का पानी पूर रास्ता मा भरा रहत है। या रास्ता गांव आवैं जाय का मेन रास्ता आय। साथै या रास्ता से अउर भी कइयौ गांव गोडरामपुर, गोबरी, कुरूहूं, बघोलन वा पुरवन का जोड़त है। मड़ई नहाय खोरे आवत है, पै नरदन का गंदा पानी हिले से नहाय खोरे सब एक होई जात है। या नाली टूट फूट परी है। गन्दगी भी रहत है जेहिसे मच्छर भी लागत हैं। या नाली के सफाई होई जाय तौ नींक होय। सफाई कर्मी गेंदा लाल का कहब है कि मैं सफाई करत हौं। गांव के मड़ई खुदै गन्दगी करत है अउर नाली मा कूड़ा डावत हैं।
जिला बांदा, ब्लाक बबेरू, गांव काजी टोला। हेंया दलित बस्ती मा नाली न होय से हैण्डपम्प नहीं लागत आय। या मारे मोहल्ला के मड़ई नाली अउर पानी दूनौ समस्यन से जूझत है।
दलित बस्ती के रहैं वाली सहोद्रा अउर कोटेदार प्रेमनरायण का कहब है कि हमरे मोहल्ला मा 2004 मा खड़ण्जा परा रहै। तबै से आज तक नाली नहीं बनी आय। नाली न होय के कारन पानी निकरैं के कतौ से जघा निहाय। यहिसे चार महीना का आवा सरकारी हैण्डपम्प हमरे मोहल्ला मा न लगा के दूसरे मोहल्ला मा लाग गा है।
कृष्ण कुमार अउर गंगाराम कहत है कि बिना पानी कउनौ काम नहीं होत आय। आधा किलोमीटर दूर पानी खातिर जाय का परत है। यहिसे हम लोग नाली अउर पानी दूनौ समस्यन का लइके बहुतै परेशान हन। प्रधान बबुली सिंह का मनसवा सुरेन्द्र सिंह का कहब है कि अबै तक खड़ण्जा बनत रहा है। अब नाली बनवावैं का काम भी शुरू कीन जई।