आयल रूपइया वापस गेल

यहां बैठते है शिक्षक
यहां बैठते है शिक्षक

जिला शिवहर, प्रखंड तरियानी, पंचायत गांव विश्म्मरपुर, राजकिय प्राथमिक विद्यालय विश्वम्मरपुर डेरा। इहां भवन न हइ जेइ कारण बच्चा अउर शिक्षक के पढ़े-पढ़ावे में दिक्कत हो रहल हइ। एइ विद्यालय में कुल नामांकन दु सौ हई।
विद्यालय के बच्चा गड्डी कुमारी, रानी कुमारी और रोहीत कुमार कहलथिन कि इहां भवन न हइ। जेई कारण हम सब पिपल ने गाछी के छावं में पढ़इ छी, सबसे त बारिश के समय उथल पुथल मच जाइ छइ।
सहायक शिक्षक अजित कुमार अउर प्रधाना ध्यापक शशिकांत झा कहलथिन कि इहां त बीना भवन के ही ब्रहम स्थान तर विद्यालय चल रहल हई। दु साल पहिले एइ गांव के विश्वनाथ साह विद्यालय बनाने के लेल जमीन देलथिन। विभाग से 2012 में नौ लाख चैसठ हजार रूपइया भी आयल रहइ लेकिन गांव के दोसर पक्ष के लोग न बनावे देलथिन। उ लोग के कहना हइ कि दोसरा जगह विद्यालय बनावे। ऐही विवाद में भवन न बनलइ त हम उ रूपइया सुद समेत दस लाख सात हजार सात सौ रूपइया विभाग के अगस्त 2014 में वापस कर देली।
जिला शिक्षा पदाधिकारी वर्षा सहाय कहलथिन कि उ भवन त प्रधानध्यापक के बनावे के रहई। उ रूपइया वापस कर देलथिन। अगर उ न बनवा सकई छथिन त दोसर प्रधानाध्यापक अतइ त बनायल जतई।