अब मिली रोजगार

डिब्बा लइके जात
डिब्बा लइके जात

जिला चित्रकूट, ब्लाक मानिकपुर, गांव रानीपुर, सकरौंहा, छेरिहा खुर्द  अउर जरवा। इं गांवन मा मड़इन का मुर्गी पालन करैं खातिर 14 जनवरी 2014 का सरकार कइती से सेत मा पचास बच्चा मिले हवैं। यहिसे बी.पी.एल. सूची मा आवैं वालेन का रोजगार मिली।
या बात का लइके खबर लहरिया पत्रकार मानिकपुर पशु अस्पताल के बड़े डाक्टर दिनेश चन्द्र गुप्ता से बात करिन। उनकर कहब हवै कि जउन मड़इन का नाम बी.पी.एल सूची मा हवै, उंई गरीबन के फार्म प्रधान कइती से भरवाये जात हवैं। यहै से बेरोजगार मड़इन का काम मिली। लखनऊ से मुर्गी के बच्चा आवत हवैं। मड़इन का दुइ दिन सिखावा जात हवै कि बच्चन का कसत खवावैं का हवै। जाड़ा के समय गुड़ का पानी गर्म कइके पियावैं। लहसुन अउर हींग, बाजरा दें से बच्चा जल्दी पल जात हवैं।
रानीपुर गांव के दशोदिया देवी अउर छेरिहा खुर्द गांव के कुंती समेत दस मड़इन का कहब हवै कि सरकार या काम बहुतै नींक करिस। छोट बच्चन का पालित हन। फेर बड़े होइ जात हवैं तौ एक-एक हजार का एक मुर्गा अउर मुर्गी बेंचित हन। यहै से हमार घर का खर्चा नींकतान से चलत हवै। हम जइसे लोगन का रोजगार भी मिल जात हवै।