अजीबों गरीब मगर आश्चर्यजनक ऐतिहासिक क्रिकेट मैच

 

image
वर्ल्ड कप का मौसम शुरू हो चूका है | तो ये शायद सही मौका है की आपको इतिहास के कुछ अजीबों गरीब लेकिन आश्चर्यजनक क्रिकेट मैचों के बारे में बताया जाए:
चर्च ऑफ़ इंग्लैंड बनाम वैटिकन चर्च: 
शुरुआत करते हैं सालों पहले इंग्लैंड में हुए एक मजाकिया मैच से | इंग्लैंड के चर्च और रोम के वैटिकन के चर्च के बीच एक ट्वेंटी ट्वेंटी मैच हुआ | इस मैच को इंग्लैंड के चर्च ने 6 विकेट से जीत लिया | ये मैच किसी कप को जीतने के लिए नहीं बल्कि ये श्रेष्टता की लड़ाई के लिए खेली गई | यह खेल अपने आप में अजीब इसलिए था क्यूंकि यहाँ कोई टीम नहीं थी न उन्हें देखने वाले प्रशंसक थे बल्कि लड़ने वाली टीम दो अलग अलग समूहों के चर्च थे | मैच को देखने 2 मुख्या पादरी और 43 अन्य पादरी शामिल थे|
अपाहिजों के बीच खेला गया अद्भुत् मैच: 
सन 1863, क्रिकेट में उन दिनों चैरिटी मैच हुआ करते थे | इन मैचों में सेना के वह योद्धा खेला करते थे जिन्होंने लड़ाई के दौरान अपने हाथ या पैर गंवा दिए थे | इसमें दो टीमें बनाई गईं जिसमें एक टीम में एक हाथ वाले और दूसरी टीम में एक पैर वाले खिलाडी शामिल किए गए| इस खेल की रोमांचक बात यह थी की एक पैर वाली टीम रन लेने के लिए दौड़ने में असमर्थ थी और एक हाथ वाली टीम फील्डिंग करने में | इस मैच का यादगार पल वो है जब लेट्फोर्ड नाम के एक सैनिक दोनों पैरों से अपाहिज होते हुए भी हर मैच की शुरुआत में 10-10 रन बनाए |
मैच का अंत तब हुआ जब एक पैर वाली टीम ने 21 रनों से जीत हासिल की |
कसाइयों के बीच खेला गया मैच:
बात मई 26, 1873 की है जब विवाहित और अविवाहित कसाइयों के बीच मैच जीतने की जुंग छिड गई| इन टीमों में एक तरफ 14 शादीशुदा कसाई थे और दूसरी तरह 14 गैर शादीशुदा कसाई थे | इस मैच को खेलते हुए एक दिन में 52 विकेट गिरा दिए गए और मैच का अंत शादीशुदा कसाईयों ने 51 रन से जीत कर किया|
स्मोकर बनाम नॉन स्मोकर:
हम सभी जानते हैं की धुम्रपान सेहत के लिए हानिकारक है | इसी को आधार बनाकर 1884 और 1886 में अलग अलग दो मैच खेले गए | इस मैच की एक टीम में स्मोकर्स और दूसरी में नॉन स्मोकर्स खिलाड़ी थे | पहला रोमांचक मैच खेलते हुए नॉन स्मोकर्स की टीम 9 विकेट से हार गई | दूसरा मैच तम्बाकू कंपनी ने ऑस्ट्रेलिया में आयोजित किया जिसमें दौबारा नॉन स्मोकर्स जीत गए| इसके लिए 4 अन्य कंपनियों ने विजयी टीम के लिए इनाम घोषित किये|
लेख साभार: विसडेन इण्डिया