अंगनवाड़ी जर्जर होय गै बाय

kasba (2)जिला फैजाबाद, ब्लाक मया गांव बरईपारा। हिंआ अंगनबाड़ी केन्द्र जर्जर होय गै बाय ई केन्द्र लगभग सन् 2001या 2002 कै बना हुएै।
सुरजीत, समृदी, शिखा, सोनू बताइन कि हमरे सब जब बरसात हुएै लागा थै। तौ यहर भागै का पराथै अउर टाट पटटी भीतर मा नापी भर जाथै अउर देवाल मा दरार फाट बाय डर लागाथै। कहुगिर न परे।
किशन, छोटू, सीता बताइन कि हमरे सबका खाना यहि समय नाय मिलत बाय दूसरी ओर एक कमरा बाय उहौ चुअत बाय बस्ता किताब सब भीग जाथै।
कार्यकत्री शिवकुमारी, सहायिका उर्मिला देवी बताइन कि हमरे हिंआ चालिस गेदाहरै गांव बाटिन लकिन कमरा एक बाय उहौ चुआथै दिवाल जर्जर होय गे बाय वहमा बच्चन बैठावत डर लगा थै कहु गिर न जात। प्रधान कहेन की एकै मरम्मत या दूसर बनै खातिर मांग करा लकिन टार दियत हइन।
प्रधान रामयज्ञ बताइन कि अबही तक हम दूसरे काम मा फसा रहेन लकिन अब यहि महीना मा ब्लाक से मांग करब बनवावै खातिर। अउर अगले महीना तक पूरा करै का उम्मिद बाय।