लेखक एम.एम कलबुर्गी की हत्या करने के कारण का हुआ खुलासा

साभार: विकिपीडिया

लेखक एम.एम कलबुर्गी की हत्या क्यों की गई इसका खुलासा हत्या के बाद गिरफ्तार किए गए दो संदिग्धों में से एक ने किया है। उसने बताया कि मूर्तियों पर दिए गए एक बयान को लेकर उनकी हत्या हुई थी।

उसने बताया है कि लेखक को साल 2014 में दिए गए उनके एक बयान को लेकर मौत के घाटा उतारा गया। लोगों ने उस बयान को हिंदू विरोधी समझा था।

बता दें इस बयान में कलबुर्गी ने भारतीय ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित यूआर अनंतमूर्ति का हवाला देते हुए कहा था कि मूर्तियों पर पेशाब करने से आप पर कोई दैवीय कहर नहीं बरपने वाला।

जिसके बाद, 30 अगस्त 2015 को कलबुर्गी की हत्या कर्नाटक स्थित धारवाड़ स्थित उनके घर के बाहर कर दी गई थी। वारदात को बाइक से आए दो अज्ञात हमलावरों ने अंजाम दिया था। राज्य पुलिस की सीआईडी टीम ने इस मामले में दो संदिग्धों को दबोचा था, जिनमें गणेश मिस्किन (27) और अमित बड्डी (28) शामिल हैं। ये दोनों ही एक कट्टरवादी हिंदू संगठन से जुड़े हैं, जिन्हें सीआईडी ने 15 सितंबर को गिरफ्तार किया था।

बताया जा रहा है कि मिस्किन का कहना है कि कन्नड़ लेखक ने वह बयान अंधविश्वास निरोधक विधेयक पर आयोजित एक चर्चा के दौरान दिया था। उनका बयान हिंदू विरोधी माना गया। यही कारण है कि जुलाई 2014 में राज्य में हिंदुओं की भावनाएं आहत करने का आरोप लगाते हुए कलबुर्गी और अनंतमूर्ति के खिलाफ मामला दर्ज हुआ। कलबुर्गी के इसी बयान पर विवाद गरमाता रहा, जिसके साल भर बाद उनकी हत्या कर दी गई।

सूत्रों ने आगे बताया कि सीआईडी पूछताछ के दौरान मिस्किन ने कलबुर्गी की हत्या की साजिश के बारे में पता होने का खुलासा तो किया। मगर वारदात में शामिल होने की बात से साफ इन्कार कर दिया। दोनों संदिग्धों को सीआईडी टीम ने 15-28 सितंबर के बीच हिरासत में रखा था।