किसानन के मेहनत कै नाय बाय महत्त्व

जिला अम्बेडकर नगर अउर फैजाबाद मा किसान मनई के मेहनत का कउनौ महत्व नाय दिया जात बाय। केतना जाड़ा, गर्मी बरसात, धाम सहि के खेती करा थिन। यतनी मंहगाई मा खाद, पानी दईकै कउनौ खानि से फसल उगावा थिन। लकिन जब बेचै कै समय आवा थै तौ निराश हुअय का परा थै।

जइसै गन्ना के दिन मा चीनी मिल मा पर्ची नाय अउर मिलत गन्ना नाय बिकत। धान के दिन मा    धान खरीद केन्द्र मा धान नाय खरीदतिन। यही कारन किसान मनई का बहुत दिक्कत हुअत बाय।

जब गन्ना कै दिन आवा थै तौ चीनी मिल से कर्मचारी गन्ना कै सर्वे करै आवा थिन। जेकरे जै बिगहा गन्ना रहा थै वकै लिस्ट बनाइ कै लै कै जाथिन फिर वही हिसाब से पर्ची बना थै। लकिन बेचै के दिन मा पर्ची नाय देतिन देखा तौ चीनी मिल पै सौ ट्राली-ट्रक गन्ना खड़ा रहा थै। केतना तौ वापस होइ जा थै।

यही हाल बाय धाने के किसानन कै धान कै हाईब्रेड बीज ब्लाक से मिला थै। जब बेचै कै समय आवा थै तौ धान केन्द्र कै अधिकारी कहाथिन कि हाईब्रेड कै चावल बहुत टूट थै। बढ़िया किस्म कै मानक रूप से चावल नाय बइठत। यही नाते हाइब्रेड धान नाय लइ जात बाय। देखा तौ धान केन्द्रन यै बीसन टाली ट्रक धान लदि के खड़ा बाय। जब मानक रूप से चावल नाय बइठत तौ ब्लाक से  काहे का बीज दै जा थै। भारत का कृषि-प्रधान देश कहा जाथै लकिन हिंआ तौ किसानन के तांई सरकार कउनौ सुबिधा नाय दियति।