17 राज्यों में मनरेगा कामगार तय न्यूनतम मजदूरी से वंचित, महिलाएं इसमें भी पीछे

फोटो साभार: श्यामकली महोबा

देश के 17 राज्यों में मनरेगा कामगार निर्धारित न्यूनतम मजदूरी से वंचित हैं। साथ ही राष्ट्रीय स्तर पर महिला कामगारों को न्यूनतम मजदूरी का औसतन 78 फीसदी हिस्सा ही मिल पाता है। ये बातें केंद्र सरकार के एक पैनल की रिपोर्ट में सामने आई है।
अंग्रेजी अखबार के अनुसार, पैनल ने कहा है कि पूरे देश में कोई भी राज्य अपने महिला मनरेगा कामगारों को तय की गई न्यूनतम खेतिहर मजदूरी नहीं दे पा रहा है। न्यूनतम वेतन कानून (1948) के तहत राज्य अपने खेतिहर मजदूरों के लिए मजदूरी तय करते हैं।
दूसरी ओर,  मनरेगा के लिए न्यूनतम मजदूरी तय करने की जिम्मेदारी केंद्र पर है।
अपनी रिपोर्ट में, ग्रामीण विकास मंत्रालय के मंत्रालय ने कहा कि एक भी राज्य पूर्ण महिला मजदूरों को पूरा वेतन नहीं दे पा रहा है- यह दर्शाता है कि राष्ट्रीय औसत पर महिलाओं को न्यूनतम मजदूरी का केवल 78 प्रतिशत हिस्सा ही मिलता है।
श्रम ब्यूरो के आंकड़ों का हवाला देते हुए रिपोर्ट में कहा गया है कि राज्य सरकारों को एक निश्चित न्यूनतम मजदूरी के बावजूद महिलाओं को पुरुषों समकक्ष बहुत कम भुगतान किया जाता है।
रिपोर्ट में तमिलनाडु जैसे राज्यों के उदाहरण दिए गए हैं, जहां महिलाओं को 65 प्रतिशत और पुरुष श्रमिकों का 73 प्रतिशत मजदूरी मिलती है। यही नहीं, यहाँ महाराष्ट्र और आंध्र प्रदेश की स्थिति समान है।
पश्चिम बंगाल, ओडिशा, उत्तर प्रदेश, पंजाब, बिहार, हिमाचल प्रदेश और असम जैसे राज्यों में बेहतर प्रदर्शन हो रहा है, लेकिन महिलाओं के वेतन पुरुषों के अनुपात में राष्ट्रीय औसत से केवल मामूली अधिक है।
अधिकारियों ने कहा कि मनरेगा, जो मैनुअल कैजुअल श्रम के लिए 100 दिन की मजदूरी का वादा करता है, में 10 वर्ष पूर्व 40 प्रतिशत से महिला वर्कफोर्स में लगातार वृद्धि देखी गई है लेकिन उनके वेतन में कोई खास अंतर नहीं आया है।