होय खा चाही सफाई

25-07-13 Mahoba Kasba - Safaaiजिला महोबा, ब्लाक चरखारी, कस्बा चरखारी, गुमान बिहारी मन्दिर ओर तालाब। ई मन्दिर ओर तालाब दो सौ साल पुरानो आय। जोन आदमियन की लापरवाही से गन्दो होत जात हे, पे प्रशासन कोनऊ ध्यान नई देत आय।
वार्ड नम्बर दो रैनपुर मोहल्ला के रहें वाले फरीद, राजाबाबू ओर द्विवेद त्रिपाठी ने बताओ कि जा तालाब दो सौ साल को बनो आय। ईमें आदमी नहात हे ओर कपड़ा धोउत हे। तीन साल से जा तालाब बोहतई गन्दो रहत हे। एते शराब को ठेका होय कछू आदमी एते तालाब के पास या मंदिर की सीढ़ीयन में बेठ के शराब पियत हें। शीशी टोर के तालाब में डार देत हे। जीसे आदमियन के पेरन में कांच लग जात हे। अभे दो महीना पेहले ईमें मछली मर र्गइं हती, जीमें प्रशासन ने कछू ध्यान नई दओ। गन्दे पानी में नहाय से खुजली ओर पेरन में कांच लगे से टिटनेस जेसी भयंकर बीमारी होय की शंका बनी रहत हे। एई से हम सोचत हे कि तालाब की सफाई हो जाए ओर शराब को ठेका हट जाय तो नींक हो जेहे। तालाब की सफाई ओर शराब को ठेका हटावाए खे लाने केऊ दइयां एस.डी.एम. खे दरखास दई हे, पे कोनऊ सुवाई नई भई आय।
चरखारी एस.डी.एम. सुनील कुमार ने बताओ कि जाभे मछली मर गई हती, तो हमने चार बोरी (ब्लीचिंग) लाल वाली दवाई डरवाई हती। ठेका हटवाये की दरखास आई हती। जीखी जांच जिला आबकारी अधिकारी खे सौंपी गई हती। जीमें ठेका न हटाये खा आदेश आओ हतो। एई से ठेका नई हटाओ गओ हे। तालाब की सफाई सावन के महीना में करा दई जेहें।