स्वतंत्रता संग्राम सेनानी परिवार से उतरी चुनावी दंगल में नीलम करवरिया

जिला चित्रकूट। नगर निकाय के चुनाव के उम्मीवार नीलम करवरिया या दरकी फेर से चुनावी मैदान मा उतरी हवै। नीलम करवरिया स्वतंत्रता संग्राम सेनानी के बहू आय अउर पिछले पंचवर्षीय मा भी नगर पालिका अध्यक्ष रही हवै। फेर से वहै कुर्सी खातिर आपन किस्मत आजमावें चाहत हवै। तौ जानित हवैं या दरकी नीलम करवरिया कउन चुनावी वादा के साथ चुनावी मैदान मा उतरी हवै।
निर्दलीय उम्मीवार नीलम करवरिया बतावत हवै कि पहिले तौ मैं घरेलू मेहरिया रही हौं। फेर राजनीति खातिर आपन पूर समय दीनेव अउर विकास का काम करायेव। जनता मौका देइ तौ फेर से विकास कराइहौं। मोरे ऊपर मूर्ति बनवावे मा गलत तारीका से रुपिया खर्च करे का आरोप लगावत हवैंजबै लक्ष्मी साहू अध्यक्ष पद मा रहै तौ वहै समय मोर ससुर के मउत होइगे रहै। तबै उंई मोर ससुर के मूर्ती बनवावें का कहिन रहै पै या काम उंई पूर नहीं करिन रहै। जबै मैं अध्यक्ष बनिव तौ बोर्ड मा मूर्ती बनावें का प्रस्ताव रखेव। जबै प्रस्ताव पास होइगा तबै मूर्ती बनवाये हौ। हमें राजनीति विरासत मा मिली हवै। यहै कारन चुनाव लड़ब हमार मजबूरी आय। देवर भाभी या दरकी के चुनाव मा आमने सामनें हवै। चुनाव मैदान मा सबै उम्मीदवार आपन आपन भाग आजमावत हवै।
बाईलाइन-मीरा जाटव और नाजनी रिजवी

Published on Nov 14, 2017