स्कूल मा हुवत लापरवाही

फैजाबाद अउर अम्बेडकर नगर मा कइयौ स्कूल एैसन बाय जहां पानी षौचालय अउर बाउन्ड्री कै सुविधा नाय बाय। जेसे गेदहरै बाहर जाए का मजबूर अहैं। सालन के बाद भी स्कूल मा सुविधा नाय भै। स्कूल मा अगर नल कै सुविधा नाय बाय तौ गेदहरन का पानी के ताई इधर-उधर भटकै का पराथै। गेदहरै स्कूल से बाहर निकलाथिन तौ डर बना रहाथै कि कउनौ हादसा न होय जाए। वहीं स्कूल मा षौचालय न हुवय से गेदहरै रोड पै निकल जाथिन तब उनका देखै वाला केहू नाय रहत कि वै केतनी दूर चला जाथिन। जेसे उनके पढ़ाई लिखाई पै भी असर पराथै। षासन से पता चला थै कि सारी सुविधा के बाद ही स्कूल मा पढ़ाई षुरू हुआथै। अगर स्कूल मा सारी सुविधा मिलाथै तौ कहां चली जाथै? काहे नाय नल अउर षौचालय कै सुविधा रहत? यसे इहै पता चलाथै कि कागज मा सारी सुविधा देखाय दीन जाथै अउर हकीकत मा स्कूलन मा सुविधा नाय कै जात। जेकै सीधा असर गेदहरन के भविष्य पै पराथै। लगभग पचास प्रतिषत स्कूल एैसन बाय जहां पै स्कूलन मा सारी सुविधा नाय बाय। जब स्कूलन मा सुविधा  न रहे तौ गेदहरन कै भविष्य कैसे सुधरे? अगर कहा जाथै कि षासन से सारी सुविधा  दीन जाथै तौ स्कूलन मा जांच काहे नाय कीन जात? जेसे असुबिधा कै कारण भी पता चल सकै? अउर स्कूल मा सुबिधा भी होय जाए।