सौरभ चौधरी बने स्वर्ण पदक जीतने वाले सबसे कम उम्र के भारतीय खिलाड़ी!

ट्विटर/ अभिनव बिंद्रा

16 साल की उम्र में भारतीय निशानेबाज सौरभ चौधरी ने एशियन गेम्स 2018 में स्वर्ण पदक जीतकर इतिहास रच दिया है।

सौरभ ने यह पदक 10 मीटर के एयर पिस्टल में जीता है। सौरभ की जितनी उम्र है उसके हिसाब से मैदान में कहीं ज़्यादा समझदारी देखने को मिली। सौरभ ने 42 साल के तोमोयुकी मतसुदा को हराया है। तोमयुकी जापान के हैं। तोमयुकी 2010 के विश्व चैंपियन रहे हैं।

इस प्रतियोगिता में सौरभ का कुल स्कोर 240।7 रहा। इस स्कोर के साथ ही सौरभ ने एशियाई गेम में इतिहास रच दिया है। इससे कुछ महीने पहले ही जर्मनी में आयोजित जूनियर वर्ल्ड कप में सौरभ ने स्वर्ण पदक जीता था।

सौरभ चौधरी मेरठ के कलानी गांव के रहने वाले हैं। किसान  के बेटे सौरभ इस वक्त 11 वीं की पढ़ाई भी करते हैं।जब कभी निशानेबाजी की ट्रेनिंग से फुर्सत मिलती है तो सौरभ पिता के साथ खेती में भी जुट जाते हैं। कलीना गांव में ही सौरभ के पिता के पास खेती लायक जमीन है।

सौरभ बताते हैं कि खेत में काम करना उन्हें पसंद हैं। इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि किस कदर सौरभ का अपनी माटी से जुड़ाव है। अपने पहले ही एशियन गेम्स में अच्छे स्कोर के साथ सोना जीतकर सौरभ चौधरी ने इतिहास रच दिया है। इस उम्र में एशियन गेम्स में गोल्ड जीतने वाले वह पहले भारतीय खिलाड़ी हैं। उनसे पहले 1994 के एशियन गेम्स में जसपाल राणा 17 साल की उम्र में सोना जीत चुके हैं।