सेंसर बोर्ड ने “लिपस्टिक अंडर माय बुर्का” फ़िल्म को असंस्कारी बोल नहीं दिया प्रमाण पत्र

फोटो साभार: फेसबुक/लिपस्टिक अंडर माय बुरखा

निर्माता प्रकाश झा की नई फिल्म ‘लिपस्टिक अंडर माय बुर्का’ को सेंसर बोर्ड ने प्रमाण पत्र देने से इनकार कर दिया है। फिल्म का निर्देशन अलंकृता श्रीवास्तव ने किया है।
फिल्म को पास नहीं करने के पीछे सेंसर बोर्ड की दलील है कि यह कहानी महिलाओं पर केंद्रित है और इसमें सामान्य जीवन से कहीं आगे बढ़कर आगे की कल्पनाएं हैं। सेंसर बोर्ड का कहना है कि इसमें कई विवादास्पद कामुक सीन हैं, गालियों वाले शब्द हैं और समाज के कुछ ऐसे मुद्दे दिखाए गए हैं जो संवेदनशील है, इसलिए इसे पास नहीं किया गया। सेंसर बोर्ड के इस फैसले के बाद बॉलीवुड की कई हस्तियों ने नाराजगी जताई है। ट्विटर पर भी कई लोगों ने इसके खिलाफ ऐतराज जताया है। भारत के एक छोटे शहर में स्थित, इस फिल्म में कोंकणा सेन शर्मा, रत्ना पाठक शाह, अहाना कुमरा, और प्लाबिता बोरठाकुर जैसे कलाकार हैं। फिल्म में वो ऐसी महिलाएं का किरदार निभा रही हैं जो आज़ाद जीवन जीने की तमन्ना रखती हैं।
आपको बता दे कि इस फिल्म को ‘मुंबई फिल्म फेस्टिवल’ में ‘बेस्ट फिल्म’ का सम्मान मिल चुका है और ‘टोक्यो इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल’ में भी इसे सम्मान दिया जा चुका है, लेकिन हमारे अपने सेंसर बोर्ड को ये फिल्म रास नहीं आई।