सेंत का बस नाम, वहिसे ज्यादा लागत रुपिया

LP_gas_cilinde wwrबुंदेलखंड के रहैं वाले मड़ई गरीब अउर मड़ई सबसे ज्यादा या समय गैस का कनेक्शन लें खातिर परेशान हैं। लोगन के पास राशन कार्ड भी है, पै यहिके बादौ उनका गैस का कनेक्शन लें खातिर एजेंसी के कइयौ चक्कर लगावै का पर रहा है।
यहिके बादौ एजेंसी वले मड़इन का या कहिके लोगन का लउटा देत हैं कि अबै नहीं कल गैस का कनेक्शन मिल सकत है। यहिसे मड़ई दुसरे दिन सुबेरे से फेर वहिनतान आपन काम धंधा छोड़ के आ जात हैं अउर दुसरे दिन भी फेर वहिनतान कहिके एजेंसी वाले लउटा देत हैं। अब या बात सउहें आवत है कि का सरकार जउन या कहत है कि अब हर घर मा गैस चूल्हा जली। जेहिसे औरतन का चूल्हा ना फूंकै का परै। काहे से कि चूल्हा मा खाना बनावै से आंखिन मा धुंआ लागत है। यहिसे आंखी खराब होई जात हैं। अगर सरकार इं सबै समस्यन से गरीब अउर पात्र लोगन के खातिर इनतान के सुविधा करिस है तौ लोगन का सेंत मा गैस का कनेक्शन काहे जल्दी नहीं दीन जा रहे हैं। यहिके खातिर मड़इन का रुपिया मा खरीदै से ज्यादा किराया भाड़ा लगावै मा खर्चा होइ जात है। फेर यहिसे का फायदा निकरत देखात हैं।