सूख गए कुएं, ख़राब पड़े हैंडपंप, कैसे बुझेगी प्यास चित्रकूट जिले की लोढ़वारा गांव के लोगों की?

जिला चित्रकूट, ब्लाक कर्वी, गांव लोढ़वारा कि दलित बस्ती मा दस महीना से हैन्डपम्प बिगड़े पड़े हवैं अउर कुंआ भी सूख पड़े हवै यहै कारन मड़इन का दुइ किलोमीटर दूरी से पानी लावे का पड़त हवैं यहिके खातिर मड़ई कइयौ दरकी प्रधान से कहिन हवै अउर डी एम का ज्ञापन भी दिहिन हवै पै पानी के समस्या जस के तस हवै अबै पानी के समस्या इनतान हवै तौ सोंचव गर्मी मा का हाल होत होइहै
राजपूत बताइस कि एक साल से हिंया के हैन्डपम्प ख़राब हवै यहै कारन हमें डेढ़ किलोमीटर दूरी साइकिल से पानी ले जायें का पड़त हवै कउनौतान बसर करे का पड़त हवै। चुनकी देवी बताइस कि हिंया न हैन्डपम्प आहीं न शौचालय बने आहीं हमें कउनौ सुविधा नहीं मिलत आय। कुंआ सूख पड़े हवैं दसन दरकी दरखास दे के बाद भी सुनवाई नहीं होत आय।कमला का कहब हवै कि जानवर का पानी पियावे का पड़त हवै तौ हैन्डपम्प से पानी नहीं निकलत आय। हैन्डपम्प से थोड़ी-थोड़ी पानी निकलत हवै। पूर मुहल्ला के मड़ई या हैन्डपम्प से पानी भरत हवैं। मुकेश कुमार बताइस कि पानी भरै मा लड़ाई होत हवै काहे से मड़ई ज्यादा हवैं अउर हैन्डपम्प एक हवै। बीडीओ कुलदीप कुमार का कहब हवै कि जउन हैन्डपम्प ख़राब हवैं तौ बनवा दीन जइहैं।
रिपोर्टर-सहोद्रा

23/11/2017 को प्रकाशित