सूखा राहत राशि दिलाने के नाम पर किसानों से मांगे दो-दो हजार, किसानों ने की पटवारी को हटाने की मांग

फसल बर्बाद होने के बाद सूखा राहत की किसानों को आस जगी थी, लेकिन बहुत से किसानों को अब इसका लाभ मिलता नहीं दिख रहा है। शासन ने किसानों को सूखा राहत का मुआवजा देने का निर्देश दिया और इसके लिये भी बजट दे दिया, लेकिन जिला छतरपुर ब्लाक नौगांव लोगासी में किसानों को सूखा राहत राशि नहीं मिल सकी। किसानों का आरोप है कि पटवारी सूखा राहत राशि देने के बदले लोगों से पैसे की मांग कर रहा है। लोगासी गांव के किसानों ने 15 मई को तहसील दिवस में ज्ञापन देकर पटवारी को हटाने की मांग की है।

प्रेमनारायण पटेल का कहना है कि जो सूखा राहत का पैसा आया है उसको लोगासी पटवारी के द्वारा दो-दो हजार रूपये मांगे जा रहें हैं। जिस भी किसान ने दो हजार रूपये पटवारी को दिया है, तो पटवारी सूखा राहत का पैसा उनके खाते में डाला है। जो लोग पैसा देने लायक नहीं है, तो वो व्यक्ति कहाँ से पैसा दे? और कहता है कि जाओ सुना आओ जिसको सुनाना हो। इस बारे में कलेक्टर साहब से बोले थे, तो उन्होंने कहा था कि देख लेगें, लेकिन अभी तक कोई कार्यवाही नहीं हुई। अगर इस पटवारी को हटाया नहीं गया, तो हम अनशन में बैठ जायेगें।

शिवकली ने बताया कि सूखा राहत का पैसा नहीं मिला है। वो पटवारी कहता है कि जब हमारे यहां कोई अनाज नहीं हुआ, तो कहाँ से पैसा दें। क्या दे पैसा होता तो हम क्यों पैसे लेने जाते। हम अपना पेट पाले कि दो हजार रूपये पटवारी को दें। राजेन्द्र ने बताया कि पटवारी पैसा मांग रहा है। दो हजार ऐसे ही मांग रहा है।

तीन महीना से चक्कर काट रहें हैं। एसडीएम नौगांव बीबी गंगेले का कहना है कि रिपोर्ट लेगें सही पाया जायेगा तो कार्यवाही करेंगें।

रिपोर्टर: आलिमा तरन्नुम

Published on May 17, 2018